#Shayari by Saurabh Dubey Sahil

~ शायरी ~

 

दिल में उम्मीदों का ख्वाब पलता रहा,

बिन कहे उससे सब कुछ चलता रहा ,

वो हँसकर एक नजर देख क्या गये,

में ताउम्रभर मोमबत्ती सा जलता रहा ।

 

~ सौरभ दुबे ” साहिल”

 

73 Total Views 3 Views Today
Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *