#Shayari by Shayar Himanshu Suthar

हर समंदर को कहाँ कश्तियां नसीब होती है

मुकद्दर है उनका जिन्हें बेटियाँ नसीब होती है

 

ये दलदल में जो खिलते है खुशकिस्मत होते है

कहाँ हर पत्ते को डालियाँ नसीब होती है

💐शायर हिमांशु सुथार

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.