#Tewari by Ramesh Raj

तेवरी—

वे  मीठे फल कहीं नहीं अब

जीवन का हल कहीं नहीं |

सुख के बादल कहीं नहीं अब

मरुथल में जल कहीं नहीं |

चैन भरे पल कहीं नहीं अब

इस मन को कल कहीं नहीं |

नैना चंचल कहीं नहीं अब

चितवन में बल कहीं नहीं |

कुहुकी कोयल कहीं नहीं अब

भाव सुकोमल कहीं नहीं |तेवरी—

वे  मीठे फल कहीं नहीं अब

जीवन का हल कहीं नहीं |

सुख के बादल कहीं नहीं अब

मरुथल में जल कहीं नहीं |

चैन भरे पल कहीं नहीं अब

इस मन को कल कहीं नहीं |

नैना चंचल कहीं नहीं अब

चितवन में बल कहीं नहीं |

कुहुकी कोयल कहीं नहीं अब

भाव सुकोमल कहीं नहीं |

+रमेशराज+रमेशराज

66 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.